Ticker

6/recent/ticker-posts

Ad Code

Responsive Advertisement

इस शहर में बनेगा महराजा सुहेलदेव का स्मारक, पीएम मोदी करेंगे वर्चुअल लोकार्पण

*यूपी के इस शहर में बनेगा महराजा सुहेल देव का स्मारक, पीएम मोदी करेंगे वर्चुअल लोकार्पण*
गोरखपुर ‍‍‍‍। उत्तर प्रदेश के पिछड़ा वर्ग कल्याण और दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग मंत्री अनिल राजभर ने कहा 16 फरवरी बसंत पंचमी को महाराजा सुहेल देव की जयंती मनाई जाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर इस दिन बहराइच में महाराजा सुहेल देव की भव्य प्रतिमा, स्मारक और उनकी समृद्ध स्मतियों को सुरक्षित रखने के लिए संग्रहालय के निर्माण के लिए शिलान्यास किया जाएगा। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री स्वयं शामिल होंगे जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली से वर्चुअल शिलान्यास समारोह को संबोधित करेंगे। इस पूरी परियोजना पर वर्तमान में 80 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। जिस मैदान में महाराजा सुहेलदेव ने सैयद सालार मसूद से जंग लड़ा था, चित्रौरा के उस मैदान का भी पयर्टन की दृष्टि से विस्तार किया जाएगा।
अनिल राजभर शुक्रवार को सर्किट हाउस गोरखपुर में मीडिया कर्मियों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 16 फरवरी को सूबे में जिन भी स्थानों पर महराजा सुहेल देव की प्रतिमा स्थापित है, वहां पुलिस बैंड को धुन बजाने के निर्देश दिए हैं। प्रतिमाओं पर पुष्पांजलि भी की जाएगी। उन्होंने शहरवासियों से इस कार्यक्रम में ज्यादा से ज्यादा संख्या में शामिल होने की पुरजोर अपील की। 
पूर्वमंत्री ओम प्रकाश राजभर से महाराजा सुहेल देव का अपमान किया एक सवाल के जवाब में अनिल राजभर ने कहा कि पूर्व मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने राजा सुहेलदेव की आड़ में राजभर समाज की राजनीति करते हैं। लेकिन वे दूसरी ओर सलार सैयद गाजी का समर्थन करने वाले असदुद्दीन ओवैसी से हाथ मिला रहे हैं। उन्हें महाराजा सुहेल देव का अपमान करने के लिए जनता से माफी मांगनी चाहिए। ये लोग राजभर समाज का क्या भला करेंगे? ऐसे लोगों को जनता लोकसभा चुनाव में नकार चुकी है।आगामी चुनाव में जनता उन्हें राजभरों के गांव में घुसने भी नहीं देगी। उनके कृत्यों का जवाब जनता वोट से देगी। 
पूर्ववर्ती सरकारों ने सैयद सालार मसूद गाजी की मजारें सजाई
मंत्री अनिल राजभर ने विपक्षी दलों पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में आक्रांता सैयद सालार मसूद गाजी की मजारों पर सजाने का काम होता था। जिसके ऊपर पता नहीं कितने हिन्दुओं के सर को कलम करने का आरोप था। बाहर के आक्रमणकारी की मजार को पिछली सरकारें सजाती रहीं लेकिन एक हजार वर्ष पहले राजा सुहेलदेव ने अयोध्या पर आक्रमण करने आ रहे सैयद सालार मसूद गाजी को पराजित किया था। ऐसे महापुरुष का सम्मान पिछली किसी सरकार ने नहीं किया। इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आभारी है कि भविष्य की पीढ़ियां जब बहराइच जाएगी तो उनके गौरवशालीी संघर्ष और कुर्बानियों से प्रभावित होंगी। उन्होंने कहा कि राजा सुहेलदेव ने सैयद सालार मसूद गाजी से इतनी बड़ी लड़ाई कि 165 साल तक किसी बाहरी आक्रमण का इतिहास नहीं मिलता है।