Ticker

6/recent/ticker-posts

Ad Code

Responsive Advertisement

गोरखपुर : नींद में सो रहे अधिकारियों से, 70 साल की महिला की पुकार; मैं जिंदा हूं साहब !

गोरखपुर के अधिकारी नींद में : 70 साल की बुजुर्ग अपने को जीवित साबित करने के लिए लगा रही अधिकारियों के चक्कर
*जमीन हड़पने की नियत से दबंग भूमाफिया ने फर्जी कूटरचित दस्तावेज के सहारे 70 वर्षीय महिला को कागजों में कर दिया मृत साबित*


गोरखपुर - गोरखपुर के चिलुआताल थाना अंतर्गत फतेहपुर गांव की रहने वाली 70 वर्षीय महिला मोतीरानी ने गोरखपुर के शास्त्री चौक पर प्रेस वार्ता कर कहा कि मेरे पति की मृत्यु सन 1990 में होने के बाद मेरी पुश्तैनी जमीन पर गाटा संख्या 108 व 109 में 8 डिसमिल जमीन पर मेरा नाम चढ़ गया। और 13 साल बाद गांव के ही दबंग भू माफिया जलालुद्दीन पुत्र सन्तु ने कूट रचित दस्तावेज के सहारे मेरे पति के फर्जी हस्ताक्षर व कूट रचित दस्तावेज के सहारे मेरा नाम खतौनी से कटवा दिया। और अपनी पत्नी का नाम डलवा दिया।   जबकि मेरे पति जलील अनपढ़ थे उन्हें पढ़ना लिखना नहीं आता था। वह किसी भी कागजात में अंगूठा लगाते थे हस्ताक्षर नहीं करते थे। 

जबकि मैं अपनी संपूर्ण खेत जमीन व मकान पर अभी तक काबिज दाखिल हूं मेरे पति ने अपने जीवन काल में किसी के नाम कोई वसीयत नहीं लिखा है। मैं अभी जिंदा हूं । मेरी दो लड़कियां है। 

एक रोज जब मैं नई खतौनी की कॉपी निकलवाने तहसील गई तो मुझे इसकी जानकारी हुई अपर तहसीलदार के यहां फर्जी मुकदमे के बाबत साल भर से मुकदमा चल रहा है। 70 वर्षीय महिला मोती रानी का कहना है कि 2448/19-06-2003 व 2448/3-7-2003 को खारिज करने हेतु बार बार सिफारिश किया लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है मैं बुढ़ी और बेबस औरत हूं मेरी दो लड़कियां हैं दबंग भूमाफिया जलालुद्दीन मेरी जमीन हड़पना चाहता है।